“श्रीसंत मैच फ़िक्सर है” – गौतम गंभीर, श्रीसंत ने लगाया बड़ा आरोप

श्रीसंत मैच फ़िक्सर है” – गौतम गंभीर, श्रीसंत ने लगाया बड़ा आरोप

लेजेंड्स लीग क्रिकेट के मैच में गौतम गंभीर और श्रीसंत के बीच नोकझोंक हुई थी। इस नोकझोंक के बाद विवाद अब थमने का नाम नहीं ले रहा है। हाल ही में श्रीसंत ने एक वीडियो में गौतम गंभीर के ऊपर आरोप लगाते हुए ये कहा की गंभीर उन्हें हमेशा ‘मैच फ़िक्सर’ बोलते थे। जैसा की आप सबको पता है साल 2013 के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबन्ध लगा दिया गया था। उसके कुछ समय बाद उनके बैन को घटाकर 7 साल कर दिया गया। मौजूदा समय में श्रीसंत अभी लीजेंड लीग क्रिकेट खेल रहे हैं और इसी दौरान हुई नोकझोंक में ये विवाद और बढ़ गया।

क्या हुआ मैच के दौरान ?

लेजेंड्स क्रिकेट लीग के एलिमिनेटर मैच के मुकाबले में दुसरा ओवर फेंकने के लिए श्रीसंत को बुलाया गया और उस दौरान बल्लेबाज़ी कर रहे थे गौतम गंभीर। श्रीसंत की पहली गेंद पर ही गौतम ने छक्का मार दिया वहीं उनकी दूसरी गेंद पर चौका लगा दिया। इन दो गेंदों के पीटने के बाद गौतम और श्रीसंत के बीच कहासुनी शुरू हो गयी। जैसा की मैच के दौरान देखा गया, श्रीसंत अपने बोलिंग मार्क पर वापस जाते समय गंभीर को घूरकर देखते हैं। पॉवरप्ले ख़त्म होने के बाद उन दोनों के बीच तीखी नोकझोंक होनी शुरू हो गयी।

Kept calling me a fixer': Sreesanth reveals 'umpire tried to stop Gambhir  but…' | Cricket - Hindustan Times

श्रीसंत ने वीडियो में कही अपनी बात

मैच ख़त्म होने के बाद श्रीसंत ने इस मामले पर अपनी बात रखते हुए सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर अपनी बात रखी। उसके बाद एक दूसरे वीडियो में श्रीसंत गंभीर पर आरोप लगाते हुए कहते है की वो उन्हें ‘फ़िक्सर’ कह रहे थे। उन्होंने अपने पोस्ट में कहा “मैंने उनके लिए एक भी बुरे शब्द का इस्तेमाल नहीं किया है या एक भी अपमानजनक शब्द का इस्तेमाल नहीं किया है. मैंने केवल इतना कहा, “आप क्या कह रहे हैं? आप क्या कह रहे हैं?” वास्तव में, मैं व्यंग्यात्मक तरीके से हंसता रहा क्योंकि वह मुझे “फिक्सर, फिक्सर, तुम एक फिक्सर हो, एफ*** ऑफ फिक्सर” कहते रहे. यह वह भाषा है जिसका उपयोग किया गया था. जब वे उसे नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे थे, तो वह मुझे फिक्सर कहते रहे।”

ऐसे ही एक वीडियो में श्रीसंत कहते हैं “मिस्टर फाइटर के साथ जो कुछ हुआ उसके बारे में चीज़ें क्लियर करना चाहता हूँ। एक है जो अपने साथी खिलाडियों से बिना किसी वजह के लड़ता है। वह अपने सीनियर खिलाड़ी वीरू भाई की भी इज़्ज़त नहीं करता है और यही आज हुआ। बिना किसी बात के वह मुझे कुछ कह रहे थे जोकि बहुत खराब था, मिस्टर गौतम गंभीर को ऐसा नहीं करना चाहिए था। ”

श्रीसंत का विवादों से रहा है नाता

श्रीसंत पहले भी विवादों में रहे हैं। साल 2013 में आईपीएल के दौरान राजस्थान रॉयल्स के तेज़ गेंदबाज़ एस श्रीसंत और उनके दो अन्य साथियों, अजीत चंदेला और अंकित चव्हाण को हिरासत में लिया गया। इन सभी पर आईपीएल के दौरान स्पॉटफिक्सिंग के आरोप में दोषी पाया गया था। बोर्ड की जांच में सभी आरोप सही पाए गए थे और उसके बाद श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबन्ध लगा दिया गया।

2008 में हरभजन सिंह और श्रीसंत के बीच विवाद हुआ था। यह विवाद उन दिनों सुर्ख़ियों में भी काफी दिनों तक रहा था। उस समय श्रीसंत आईपीएल में किंग्स एलेवेन पंजाब के लिए खेलते थे और हरभजन मुंबई इंडियन की टीम में हुआ करते थे। एक मैच के दौरान इन दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया की हरभजन ने श्रीसंत को लाइव मैच में थप्पड़ जड़ दिया था। उसके बाद हरभजन को आईपीएल के उस सीजन में बैन कर दिया था।

Harbhajan-sreesanth Controversy:श्रीसंत को थप्पड़ मारने के 14 साल बाद हरभजन  ने मानी गलती, कहा- मुझे ऐसा नहीं करना था - Harbhajan Singh Admitted His  Mistake After 14 Years Said I Should Not

श्रीसंत पर धोखाधड़ी के आरोप भी लगाए गए थे। उत्तर केरल के एक ज़िले से किसी आदमी ने श्रीसंत के ऊपर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज करवाया था। शिकायतकर्ता सरिश गोपालन ने आरोप लगाया की श्रीसंत और उनके कुछ साथी ने मिलकर एक स्पोर्ट्स अकादमी बनाने का दावा करके उनसे लगभग 20 लाख रुपये लिए थे।

इस अकादमी का निर्माण कर्नाटक के कोल्लूर में होना था और सरिश को इस अकादमी में एक पार्टनर के तौर पर शामिल होना था। जिसके लिए उन्होंने निवेश के रूप में लगभग 19 लाख रुपये दिए थे। पुलिस ने इस मामले में आईपीसी के धारा 420 के तहत शिकायत दर्ज की थी।

Leave a Comment